डार्क मैटर और डार्क एनर्जी क्या है? ब्रह्माण्ड का रहस्य

डार्क मैटर और डार्क एनर्जी क्या है?

डार्क मैटर और डार्क एनर्जी क्या है? क्या आपने कभी सोचा है कि हमारा ब्रह्माण्ड संतुलित कैसे है? हमारी गैलेक्सी मिल्कीवे में ही खरबों तारेहैं लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि हमारी गैलेक्सी के तारे इस गैलेक्सी को छोड़ कर किसी दूसरी गैलेक्सी में क्यों नहीं चले जाते? और क्याआपने कभी सोचा है कि तारे हमेशा क्लस्टर्स यानी झुण्ड में ही क्यों पाए जाते हैं? जिन क्लस्टर्स को गैलेक्सी बोलते हैं ! आइये जानते हैं कि डार्क मैटर और डार्क एनर्जी क्या है?

इन सभी सवालों का एक ही जवाब हो सकता है वो है गुरुत्वाकर्षण बल ! यही वो बल है जो पूरे ब्रह्माण्ड को संतुलित रखे हुए है और इसी बलकी वजह से तारे एक गैलेक्सी को छोड़ कर दूसरी गैलेक्सी में नहीं जाते ! लेकिन अब यहां पर सबसे बड़ा सवाल सामने आता है कि क्याब्रह्माण्ड में इतना मैटर यानी पदार्थ है जो इतना शक्तिशाली गुरुत्वाकर्षण बल पैदा कर सके कि कोई भी तारा गैलेक्सी को छोड़ कर बहार नाजा पाए?

जो भी हम देख सकते हैं या महसूस कर सकते हैं जैसे कि अणु, परमाणु, नदियाँ, पहाड़, ग्रह, उपग्रह, तारे और गैलेक्सी आदि इन सभी के मैटरको मिला कर ब्रह्माण्ड में केवल 5% से भी कम इस प्रकार का मैटर मौजूद है जिसको कि आर्डिनरी मैटर कहते हैं ! खगोल वैज्ञानिकों ने जबमिल्कीवे गैलेक्सी का अध्ययन किया तो पाया कि गैलेक्सी के अंदर इतना मैटर मौजूद नहीं है जो इतना शक्तिशाली गुरुत्वाकर्षण बल उत्पन्नकर सके कि सारे तारों को एक ही गैलेक्सी में बांधे रखे !

अब यहां पर एक सवाल सामने आता है कि गैलेक्सी में इतना शक्तिशाली गुरुत्वाकर्षण बाल उत्पन्न करने वाला मैटर यानी पदार्थ ही नहीं है तोफिर गैलेक्सी में सभी तारे कैसे बंधे हुए हैं? इससे पता चलता है कि गैलेक्सी के अन्दर कुछ तो ऐसा है जिससे इतना गुरुत्वाकर्षण बल पैदा होरहा है कि सारे तारे आपस में एक ही गैलेक्सी में बंधे हुए हैं ! वैज्ञानिकों ने इस रहस्यमई चीज का नाम श्याम पदार्थ यानी डार्क मैटर रखा ! डार्क मैटर ही वो मैटर है जो इतनी शाक्तिशाली ग्रेविटी उत्पन्न कर रहा है कि सम्पूर्ण गैलेक्सी के तारे आपस में बंधे हुए हैं और संतुलित हैं ! मजेकी बात तो ये है कि डार्क मैटर प्रकाश को ना तो अवशोषित करता है और ना ही रिफ्लेक्ट यानी परावर्तित करता है ! इसके इसी गुण की वजहसे इसे देखा नहीं जा सकता और सबसे बड़ी बात ये है कि साधारण पदार्थ अणु और परमाणु से मिलकर बना होता है लेकिन डार्क मैटर के बारेमें ऐसी कोई जानकारी नहीं है जिससे पता चल सके कि ये किस चीज से बना है?

डार्क मैटर अभी तक एक रहस्य बना हुआ है क्यों कि इसके अस्तित्व का कोई भी वैज्ञानिक सबूत नहीं है ! लेकिन इसके अस्तित्व को नकाराभी नहीं जा सकता ! ये एक अद्रश्य पदार्थ है जो अपना प्रभाव छोड़ रहा है ! यहां तक कि डार्क मैटर इलेक्ट्रो मैग्नेटिक रेडिएशन के साथ भीइंटरेक्ट नहीं करता ! यही कारण है कि आधुनिक उपकरण भी इसके अस्तित्व को नहीं खोज पा रहे हैं !

डार्क मैटर की ही तरह ब्रह्माण्ड में एक और रहसयमई शक्ति मौजूद है जिसे डार्क एनर्जी कहते हैं !

अब ये बात तो हम जानते हैं कि गैलेक्सियों में सभी तारे डार्क मैटर की वजह से ही बंधे हुए हैं जो एक गैलेक्सी को छोड़ कर किसी दूसरीगैलेक्सी में नहीं जाते लेकिन अब ये डार्क एनर्जी कहाँ से आयी? आइये जानते हैं !

ऐसा माना जाता है कि ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति एक बिग बैंग धमाके से हुई उस धमाके की वजह से ब्रह्माण्ड में मौजूद सारा पदार्थ उस पॉइंट से दूरजा रहा है या यूँ कहे कि सभी गैलेक्सियां उस बिग बैंग पॉइंट से दूर जा रही हैं !

न्यूटन का नियम कहता है कि अगर कोई भी वस्तु गतिशील है तो उसकी गति को तब तक नहीं रोका जा सकता जब तक कि उस पर कोईबाहरी बल वस्तु की विपरीत दिशा में ना लगाया जाए ! अब यहां पर ध्यान देने वाली बात ये है कि कोई भी वस्तु अगर गतिशील है तो उसकावेग लगातार होगा जब तक कि उस वस्तु की गति की दिशा में कोई बाहरी बल ना लगाया जाए !

खगोल वैज्ञानिकों ने जब गैलेक्सियों का अध्ययन किया तो पाया कि सभी गैलेक्सियां एक सामान गति से चलने की बजाय त्वरण में हैं ! मतलबप्रति सेकंड गैलेक्सियों की गति की रफ्तार बढ़ती जा रही है ! न्यूटन के अनुसार ऐसा तभी हो सकता है जब इन गैलेक्सियों पर कोई बाहरी बललग रहा हो ! अब यहां पर एक सवाल सामने आता है कि ब्रह्माण्ड में ऐसी कोनसी ऊर्जा है जो इन विशाल गैलेक्सियों को धकेलती जा रही है?

तो वैज्ञानिकों ने इस रहस्यमई ऊर्जा का नाम Dark Energy दिया !

डार्क मैटर और डार्क एनर्जी ये दोनों ही ब्रह्माण्ड में मौजूद हैं लेकिन इनके अस्तित्व का अभी तक कोई भी फिजिकल सबूत नहीं है ! लेकिनफिजिकल सबूत ना होने के वाबजूद भी ये दोनों ब्रह्माण्ड में अपने अस्तित्व को दर्शाते हैं और वैज्ञानिकों के अनुसार इस ब्रह्माण्ड में 5% से भीकम मात्रा में वो पदार्थ है जिसे हम फिजिकली अनुभव कर पाते हैं और लगभग 25% डार्क मैटर है और बाकी 70% डार्क एनर्जी है ! डार्क मैटर और डार्क एनर्जी  दोनों ही अद्रश्य हैं !

मुझे उम्मीद है कि आपको डार्क मैटर और डार्क एनर्जी क्या है के बारे में पता चला होगा !

स्टीफन हाकिंग की चेतावनी

Share with your friends
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *