What is beyond the universe in Hindi

What Is Beyond The Observable Universe:

Cosmology में सबसे अनसुलझा सवाल है की Observable Universe के बहार क्या है? Observable Universe की कल्पना करने से पहले हमारा ये जान लेना जरुली है कि Observable Universe क्या है?
Observable Universe वो एरिया है जिसको हम माप सकते हैं और इसके बाहर के एरिया को हम माप नहीं सकते ! यह एक Spherical एरिया है जिसका मेटर पृथ्वी से भी Observe किया जा सकता है और इस एरिया में लगभग 2 ट्रिलियन आकाश गंगाएं मौजूद हैं !
ऐसा माना जाता है कि इस Observable Universe का जन्म 13.7 बिलियन साल पहले हुआ था क्यों कि अभी तक ब्रह्माण्ड में 13.7 बिलियन साल से पुरानी लाइट को डिटेक्ट नहीं किया गया है ! लेकिन ऐसा भी माना जाता है कि Observable Universe के बाहर भी लाइट का अस्तित्व हो लेकिन वो लाइट अभी तक ट्रेवल करके हमारे ग्रह तक ना पहुंची हो !

अब सवाल ये है कि Observable Universe के बाहर क्या है? यहाँ पर 4 ऐसी अवधारणाओं को जानेंगे जो बताती हैं कि Observable Universe के बाहर क्या हो सकता है? आइये जानते हैं  ! What Is Beyond The Observable Universe:

The Same Thing

अभी तक खगोलविद ब्रह्माण्ड की बाउंड्री को डिटेक्ट नहीं कर पाए हैं जिससे पता चले कि ब्रह्माण्ड का कोई अंतिम छोर भी है जहां पर ब्रह्माण्ड ख़तम होता हो ! इस वजह से ऐसा हो सकता है कि Observable Universe के बाहर भी वही चीजें हो जो Observable Universe में हैं जैसे ग्रह, तारे, आकाश गंगाएं आदि ! लेकिन यह थ्योरी फिर भी Confusing है क्यों कि इस तरह से तो ब्रह्माण्ड इसी तरह से अनंत तक फैला होगा जिसका कोई भी अंत नहीं होगा !
इस थ्योरी के अनुसार खगोलविद मानते हैं कि Observable Universe के बाहर हमारे ब्रह्माण्ड की तरह ही दोहराव हो रहा होगा और इस बात की प्रबल संभावना है कि वहां पर भी पृथ्वी की तरह ग्रह होगा जिस पर जीवन मौजूद होगा और ब्रह्माण्ड का दोहराव अनंत तक होगा !
ये थ्योरी लगभग सामानांतर ब्रह्माण्ड जैसी ही है ! बहुत से लोग मानते हैं कि ब्रह्माण्ड एक बड़ा लूप है जो कि गुब्बारे की तरह आकर में बड़ा हो रहा है ! खगोलविद मानते हैं कि ये लूप इतना बड़ा है कि इसके curvature को डिटेक्ट नहीं किया जा सकता जिसकी वजह से Observable Universe फ्लैट लगता है ! यहाँ तक कि ब्रह्माण्ड एक बड़ा लूप है जो कि आकर में बड़ा हो रहा है तो सवाल ये है कि ये बड़ा लूप किस चीज में फ़ैल रहा है?

A Giant Black Hole

यह एक मजेदार थ्योरी है अभीतक यूनिवर्स के जन्म के बारे में जो अवधारणाएं दी जाती है वो है बिग बैंग थ्योरी ! बिग बैंग थ्योरी के अनुसार 14 बिलियन साल पहले सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड एक अनंत घनत्व वाले बिंदु के Explosion से अस्तित्व में आया लेकिन बिग बैंग थ्योरी भी ब्रह्माण्ड के अस्तित्व के बारे में सभी सवालों के जवाब नहीं दे पाती जैसे कि बिग बैंग से पहले क्या था? और वो अनंत घनत्व वाला बिंदु कहाँ से आया? लेकिन A Giant Black Hole Theory कुछ हद तक बिग बैंग थ्योरी पर उठने वाले सवालों के जवाब देती है !
इस थ्योरी के अनुसार बिगबैंग से पहले भी कुछ था और वो था एक और यूनिवर्स जो कि एक ब्लैक होल में समां गया और Singularity Level तक Crunch होते गया और उस Singularity जिसको कि अनंत घनत्व वाला बिंदु बोल सकते हैं इस अनंत घनत्व वाले बिंदु को वैज्ञानिको ने नाम दिया THE SEED OF A NEW UNIVERSE ! इस SEED में विस्फोट हुआ और एक नया ब्रह्माण्ड बन गया ! इस थ्योरी के अनुसार हमारा ब्रह्माण्ड एक बड़े ब्लैक होल के अंदर हो सकता है ! वैसे इस थ्योरी का समर्थन करने के लिए कोई भी ठोस सबूत नहीं है ! इस थ्योरी के अनुसार ब्रह्माण्ड में मौजूद हरेक ब्लैक होल के अंदर एक नया यूनिवर्स हो सकता है !

Dark Flow

हाल ही में हुई एक खोज के मुताबिक़ Observable UNIVERSE के बाहर कोई Mysterious Force मौजूद है जो कि Galactic Clusters को अपनी तरफ काफी तेज रफ़्तार से खींच रहा है ! वैज्ञानिकों ने इस रहस्यमई Force को नाम दिया है Dark Flow मतलब अँधेरे की तरफ बहाव !
इस खोज से पहले खगोलविद मानते थे कि ब्रह्माण्ड एक समान तरीके से फ़ैल रहा है लेकिन डार्क फ्लो की खोज ने ब्रह्माण्ड के एक समान दर से फैलने कि अवधारणा पर सवाल खड़े किये क्योंकि Galactic Clusters 1000 KM/S की रफ़्तार से भी काफी तेज गति से ब्रह्माण्ड के एक विशेष भाग की तरफ बहते चले जा रहे हैं ! ऐसा माना जाता है कि Observable UNIVERSE के बाहर कोई बहुत बड़ा structure है जिसकी gravity की वजह से ब्रह्माण्ड के एक विशेष हिस्से में गैलेक्टिक क्लस्टर खींचे चले जा रहे हैं ! अब सवाल ये है कि वो बड़ा स्ट्रक्चर क्या हो सकता है? क्योंकि Observable UNIVERSE के बाहर तो देखा ही नहीं जा सकता !

ऐसा मन गया कि Observable UNIVERSE के बाहर एक बहुत बड़ा ब्लैक होल हो जो कि क्लस्टर्स को अपनी तरफ खींच रहा हो लेकिन NASA इस बात से सहमत नहीं है NASA का कहना है कि अगर वहां पर कोई ब्लैक होल होता तो क्लस्टर्स की स्पीड और बढ़ती जाती लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है ! कार्नेगी यूनिवर्सिटी के प्रोफेशर Rechard Hallman का मानना है कि यह डार्क फ्लो observable Universe के बाहर किसी दूसरे यूनिवर्स के पोल की वजह से हो सकता है ! उनका मानना है कि observable UNIVERSE के बाहर भी कोई दूसरा यूनिवर्स मौजूद है !

The Multiverse

मल्टीवर्स थ्योरी लगभग पहली थ्योरी के जैसे ही है ! इस थ्योरी के अनुसार हमारे यूनिवर्स की तरह ही observable UNIVERSE के बाहर और भी यूनिवर्स मौजूद हैं ! इस थ्योरी के अनुसार हमारे यूनिवर्स के End Point के बाद से एक नया यूनिवर्स शुरू हो जाता है ! ये Parallel UNIVERSE bubbles की तरह हैं ! हमारा कॉस्मिक विज़न प्रकाश की गति कि वजह से सीमित है जिसकी वजह से हम 14 billion light years से आगे नहीं देख पाते ! कुछ लोग मानते हैं कि ब्लैक होल में जाकर एक नए यूनिवर्स में जाया जा सकता है !
दोस्तों, जैसा कि हम जानते हैं कि ब्रह्माण्ड फ़ैल रहा है लेकिन ये किस चीज में फ़ैल रहा है? और क्या कोई ऐसा point है जहाँ पर कुछ न हो मतलब कि हमारा यूनिवर्स, मल्टीवर्स जहाँ तक Exist कर सकते हैं क्या उस सब के बाद कोई ऐसा point होगा जिसके बाद कुछ भी Exist ना करता हो? या ये सब अनंत तक फैले हैं ! Stephan Hawking का मानना है कि इसका कोई जवाब नहीं है और ये सब मानव जाती की समझ के बाहर है !

How would be the future Earth 1000 years from now

checkout Tech & Myths youtube channel

Share with your friends
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share

6 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *